श्रीलगुरुदेव (हिन्दी)

विश्व शान्ति के लिए धर्म-पालन की प्रयोजनीयता 

भारतवर्ष में यह विषय रखना जँचता नहीं है। साधारण विचार से ‘विश्व शान्ति के लिए धर्म-पालन करने की प्रयोजनीयता’ का मतलब है कि क्या अधर्म की भी विश्व शांति के लिए जरूरत हो सकती है? अभी लोगों के अन्दर ऐसी भावना आ गई है कि धर्म से शांति नहीं होगी। शायद, इसलिए इस प्रकार का विषय रखा गया है। सोचिये यदि धर्म से शान्ति नहीं होगी तो क्या अधर्म से शान्ति होगी?

Read Download
शुद्ध – भक्ति