श्रीश्रीमद् भक्ति दयित माधव गोस्वामी महाराज जी

पत्रों द्वार उपदेश

याद रखना कि साधक का जीवन सदा सुसयंत होना उचित है

Read Download
पत्रों द्वार उपदेश

निष्कपट सेवा-चेष्टा रहने से, उसकी सेवा-चेष्टा (भक्ति-भाव) ग्रहण करने के लिए स्वयं भगवन आग्रह करते हैं . . . . . .

Read Download
पत्रों द्वार उपदेश

दूसरों की दुर्बलता देखकर स्वयं को अधिक सतर्क होना होगा जिससे अपना आदर्श-जीवन दूसरों के लिए शिक्षणीय व हितकर हो . . . . . .

Read Download
पत्रों द्वार उपदेश

शुद्ध भक्तों व भगवन् की सेवा के लिए कार्य-मन-वाक्य नियोजित करने से अवश्य ही श्रेय वस्तु लाभ होगी . . . . .

Read Download
The Holy Life
दिव्य अमृत वर्षा

हरिकथा के दिव्या अमृत बिन्दु . . . .

Read Download